नगर निगम अयोध्या के बारे में

उत्तर प्रदेश में नगरीय स्थानीय निकाय दो महत्वपूर्ण कानून द्वारा शासित किया जाता है अर्थात यूपी म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन अधिनियम, 1959 और यूपी म्युनिसिपाल्टि अधिनियम 1916। ये दो अधिनियम नगरीय स्थानीय निकाय के शासन के तरीके, स्थानिक अधिकार क्षेत्र और कार्यप्रणाली को निश्चित करते हैं।

अयोध्या नगर निगम की स्थापना 07.01.1978 को नगर निगम फैजाबाद से अलग कर के हुई थी। जिसके बाद इसका गठन नगर निगम परिषद अयोध्या के रूप में हुआ और उस वक्त से यह नगर निगम अयोध्या अपने क्षेत्रवासियों को संबंधित सेवा प्रदान करने में सक्षम रूप से कार्यरत है।

इसके पश्चात मई 2017 में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी शासनादेश के आधार पर नगर निगम अयोध्या को वापस नगर निगम फैजाबाद के साथ विलय कर दिया गया जिसके बाद नगर निगम फैजाबाद और नगर निगम अयोध्या की कार्यप्रणाली नगर निगम अयोध्या के अंतर्गत आ गई।

अयोध्या नगर निगम का गठन भारतीय संविधान में संवैधानिक प्रावधानों के आधार पर हुआ है।

अयोध्या नगर निगम एक नगरीय निकाय है जो, अपने क्षेत्रवासियों को मूलभूत इंफ्रास्ट्रक्चर सुविधा मुहैया कराता है, जिसमे मनोरंजन के साधन भी समावित हैं। नगर निगम अयोध्या निजी सेक्टर की भागीदारी से शहर को बेहतर बनाने के लिए अग्रसर है। साथ ही नगर निगम का यह भी लक्ष्य है कि वो अपनी सेवाओं को और बेहतर बनाए और मांग और आपूर्ति के बीच की कमी को दूर कर सके।

अयोध्या नगर निगम उत्तर प्रदेश के बड़े नगर निगम निकायों में से एक है, जो लगभग 25 लाख की आबादी को अपनी सेवाएं प्रदान करता है।

हमको कौन नियंत्रित करता है?

स्थानीय सरकार की एक संस्था होने के नाते हमारे दो विंग - के बीच एक स्पष्ट अंतर है।

  • विधानमंडल और
  • कार्यकारी

हमारा विधानमंडल एक शासी निकाय है। इस शासीकीय निकाय को हमारे भौगोलिक क्षेत्र में रहने वाले नागरिकों द्वारा चुने गए है।

भौगोलिक क्षेत्र को २ भाग में किया गया है-चुनावी वार्डों। प्रत्येक वार्ड के लिए एक प्रतिनिधि का चुनाव होता है जो अपने वार्ड की समस्याओं को निकाय को सूचित करके समस्याओं का निस्तसरण करता है। अन्य सदस्य जो निकाय को नियंत्रित करते हैं। विधायक, सांसद, नगर आयुक्त, जिला मजिस्ट्रेट।

शासकीय निकाय के लिए चुनाव, राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा आयोजित किया जाता है। 18 वर्ष से अधिक कोई भी व्यक्ति निकाय के चुनावों में वोट करने के लिए पात्र है।

शासकीय निकाय संवैधानिक ढांचे और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किए गए नियमों के भीतर काम करता है।

हम क्या करते हैं?

राज्य सरकार द्वारा हमको निर्दिष्ट किया गया है कि हम जनता के जीवन को बेहतर बनाने के लिये अपने भौगोलिक क्षेत्र में बहुत चीजों को कर सकते हैं। हमारे कुछ काम हैं:

  • स्ट्रीट लाइट नेटवर्क की स्थापना और रातों में उचित सड़क प्रकाश व्यवस्था सुनिश्चित करना।
  • नागरिकों के लिए जल आपूर्ति नेटवर्क की स्थापना, पानी की सुनिश्चित पर्याप्त मात्रा उपलब्ध और इसे बनाए रखना।
  • रोड नेटवर्क की स्थापना और उसका रखरखाव।