फैजाबाद शहर का इतिहास

निगर निगम अयोध्या का गठन नगर निगम अयोध्या और फैजाबाद को विलय करने के पश्चात हुआ है। नगर निगम अयोध्या अब जिला फैजाबाद का मुख्यालय है।

फैजाबाद शहर पूर्वी भारत के उत्तर प्रदेश के सरयू नदी के तट पर लखनऊ से पूर्व में 130 किमी. दूर पर स्थित है। इस शहर की स्थापना अली वर्दी खान, बंगाल के नवाब (1676-1756) 1730 में हुई थी। फैजाबाद का शिलन्यास सादत खान, जो अवध के दूसरे नवाब थें, द्वारा किया गया था। उनके उत्तराधिकारी शूजा-उद-दौला ने इसे अवध की राजधानी बनाई थी। एक बस्ती के रूप में फैजाबाद, लगभग 220 साल पहले विकसित हुआ था। सफदर जंग, अवध के नवाब ने इसे अपना सेना मुख्यालय घोषित किया। उनके उत्तराधिकारी शूजा-उद-दौला ने यहां पर एक किले का निर्माण कराया। इसे छोटा कलकत्ता के नाम से जाना जाता था, हालांकि अब यह किला खत्म हो चुका है। इन्होने वर्ष 1765 में चौक का निर्माण कराया और साथ ही अंगूरीबाग और मोतीबाग का फैजाबाद के दक्षिण में निर्माण कराया। शूजा-उद-दौला के कार्यकाल के समय, फैजाबाद काफी तेजी से विकसित हुआ। शूजा-उद-दौला ने फैजाबाद में विभिन्न खूबसूरत इमारतों का निर्माण कराया जिसमे, गुलाब बाड़ी, मोती महल और बहू बेगम का मकबरा भी शामिल है।

गुलाब बाड़ी एक बेहतर वास्तुकला का उदहारण है, जो एक मैदान में बना है जिसके चारो ओर दीवार खड़ी है। इसमे प्रवेश करने के लिए दो बड़े प्रवेश द्वारों का भी प्रावधना है। यह इमारतें मुख्य रूप से वास्तुकला के लिए प्रसिद्धा है। शूजा-उद-दौला की पत्नी बहू बेगम थीं, जिन्होने वर्ष 1743 में बेगम से निकाह किया और उसके बाद फैजाबाद में ही रहीं।

जवाहरबाग के पास ही बहू बेगम का मकबरा स्थापित है, जहां वर्ष 1816 में उनकी मौत के बाद उन्हे दफना दिया गया था। अवध में इसे वास्तुकला के संदर्भ में सबसे बेहतरीन काम के रूप में देखा जाता है। इसका निर्माण तीन लाख रुपए की लागत से हुआ था, जो मुख्य सलाहकार दरब अली खान द्वारा निर्मित किया गया था। बेगम के मकबरे के ऊपर से शहर का बेहतरीन नजारा देखा जा सकता है। बहू बेगम एक बड़े हौदे की महिला थीं, जिनकी प्रतिष्ठा समाज में बहुत ज्यादा थी। फैजाबाद की ज्यादातर मुस्लिम इमारतें इन्हे ही समर्पित हैं। वर्ष 1815 में बहू बेगम की मृत्यु के पश्चात से फैजाबाद की साख धीरे-धीरे गिरने लगी। और अंत में नवाब आसफ-उद-दौला द्वारा फैजाबाद को हटा कर लखनऊ को राजधानी बनाने का निर्णय लिया गया।

फैजाबाद खरीदारी के लिए एक बेहतर जगह है, यहां के आसपास के क्षेत्रों में अनाज, तिलहन, कपास, और तंबाकू की खेती के लिए फायदेमंद माने जाते हैं। पास में ही एक हाईड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट भी स्थापित है।

फैजाबद एक छोटा और विकासशील शहर है, यहां का हर निवासी शहर और गांव दोनो जगह जीवन जीने के आनंद का अनुभव कर सकता है। शहर के बाहर बहुत से खेत हैं, जहां पर्याप्त मात्रा में खेती होती है।