स्मारक

मोती महल

यह स्थान मुग़ल वास्तुकला का एक नायाब नमूना है। इतिहास के अनुसार यह नवाब शुजा-उद-डौला की पत्नी का निवास स्थान था जिसका निर्माण 1743 ईसवी में किया गया था। इसके अनूठे वास्तुकला के कारण यह अयोध्या शहर के महत्वपूर्ण स्थलों में से एक है तथा घूमने योग्य है।


बहू बेगम का मकबरा

बहू बेगम का मकबरा एक एतिहासिक स्मारक है जिसका निर्माण 1816 में बहू बेगम(नवाब शुजा-उद-डौला की पत्नी) के विश्राम गृह के रूप में हुआ था। इस मकबरे की वास्तुकला अद्भुत है तथा यह सुंदर हरे भरे उद्यान से घिरा हुआ है। सचमुच यह एक घूमने लायक स्थल है।